लोन मूल्यांकन प्रक्रिया

समझें कि आपका क्रेडिट स्कोर ऋण आवेदन प्रक्रिया को कैसे सुविधाजनक बनाता है

अभी हासिल करें

ऋण लेना ज्यादातर लोगों के लिए एक जटिल प्रक्रिया हो सकती है। नीचे दिया उदाहरण, ऋण मूल्यांकन प्रक्रिया के दौरान, हर कदम पर क्या अपेक्षा की जाए यह दर्शाता है। इस जानकारी से हम यह समझ पाते हैं कि बैंकों में क्रेडिट डिशीजनिंग कैसे काम करता है और आपके ऋण/क्रेडिट कार्ड के आवेदन को स्वीकार या अस्वीकार करने से पहले बैंक क्या कदम उठाते हैं।

७५० को आमतौर पर अच्छा स्कोर माना जाता है
व्यक्तिगत ग्राहकों को दिए गए ७९% लोन्स और क्रेडिट कार्ड, ७५० से अधिक सिबिल स्कोर वालों को दिए जाते हैं.


बैंक मोटे तौर पर क्या जांचते हैं?

  • क्रेडिट इन्फॉर्मेशन रिपोर्ट (सीआईआर) में बताए गए दायर मामले या निरस्त मामले. यह आपके सीआईआर के `अकाउंट स्टेटस' विभाग में दिखाया जाता है.
  • भुगतान इतिहास का रुझान- क्या कोई भूल या बकाया राशि तो नहीं है. आपके सीआईआर के `डेज पास्ट ड्यू' (डीपीडी) क्षेत्र में यह दिखाया जाता है.
  • भुगतान इतिहास का रुझान- क्या कोई भूल या बकाया राशि तो नहीं है. आपके सीआईआर के `डेज पास्ट ड्यू' (डीपीडी) क्षेत्र में यह दिखाया जाता है.
  • ईएमआई और आय का अनुपात: यदि आपकी मौजूदा कुल ईएमआई आपके मासिक वेतन से ५०% से अधिक होती है तो लोन मिलने की संभावना कम हो जाती है. इसे अधिक समझने के लिए आइए एक उदाहरण देखते हैं.
 
योग्यता का निर्धारण
 
 
केस १ *
  • आय :   ५०,०००
  • अदा कुल ईएमआई :   १०,०००
  • ईएमआई और आय का अनुपाद: २०% [१०,०००/५०,०००]
  • प्रचलित नियम ईएमआई और आय का अनुपात: ५०% (कर्जदाता मानते हैं कि आपको जीवनयापन के लिए आधे वेतन की जरूरत होगी.)
  • कुल कर्ज लेने की क्षमता: ५०%*
      ५०,००० =   २५,०००
  • कुल वृद्धिशील ईएमआई जो व्यक्ति उठा सकता है:
      २५,००० -   १०,००० =   १५,०००
  • इस ईएमआई के आधार पर, कुल अतिरिक्त लोन जो कि २० वर्ष के दौरान १०% की ब्याज दर पर मंजूर किया जा सकता है =   १५,००,०००

लोन आवेदन के मंजूर होने की संभावना होती है

 
केस २ *
  • आय :   १,००,०००
  • अदा कुल ईएमआई:   ५०,०००
  • ईएमआई और आय का अनुपाद: ५०% [५०,०००/१,००,०००]
  • प्रचलित नियम ईएमअ्राई अ्रौर आय का अनुपात: ५०% (कर्जदाता मानते हैं कि आपको जीवनयापन के लिए आधे वेतन की जरूरत होगी.)
  • कुल कर्ज लेने की क्षमता: ५०%*
      १,००,००० =   ५०,०००
  • कुल वृद्धिशील ईएमआई जो व्यक्ति उठा सकता है:
      ५०,००० -   ५०,००० =  
  • इस ईएमआई के आधार पर, कुल अतिरिक्त लोन जो कि २० वर्ष के दौरान १०% की ब्याज दर पर मंजूर किया जा सकता है =  

लोन आवेदन के नामंजूर होने की संभावना है